सबसे लंबी रेल लाइन 112 किमी देवास जिले में बिछाई जाएगी। सीहोर में 66 किमी और इंदौर में 20 किमी लंबी लाइन बिछाई जाने की योजना है।

भोपाल। इंदौर से बुधनी तक बिछाई जाने वाली नई रेल लाइन के लिए निजी जमीन का अधिग्रहण शुरू हो चुका है। परियोजना के लिए रेलवे ने इंदौर, देवास और सीहोर में जमीन अधिग्रहण के लिए फाइनल नोटिफिकेशन जारी कर दिया गया है। इंदौर में 123.50 हेक्टेयर निजी जमीन अधिग्रहित होना है। इसके लिए किसानों को मुआवजा राशि जारी की जाएगी। तीन महीनों में निजी जमीन अधिग्रहण की प्रक्रिया पूरी कर रेलवे मार्च 2024 से निर्माण कार्य करना शुरू कर देगा। इसके लिए रेलवे ने टैंडर जारी करने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। सबसे लंबी रेल लाइन 112 किमी देवास जिले में बिछाई जाएगी। सीहोर में 66 किमी और इंदौर में 20 किमी लंबी लाइन बिछाई जाने की योजना है।

प्रदेश सरकार पहले ही शासकीय जमीन पर काम करने की अनुमति रेलवे को दे चुकी है। जिससे इंदौर और बुधनी दोनों तरफ से सरकारी जमीन पर पुल, पुलिया, ब्रिज और अंडर पास बनाने का काम चल रहा है।

750 करोड़ की है यह परियोजना :
रेलवे से मिली जानकारी के अनुसार 198 किमी लंबी इस रेल परियोजना को पूरा करने में लगभग 750 करोड़ रुपए की लागत रेलवे को आएगी। अगले वित्तीय बजट में परियोजना के लिए 514 करोड़ की राशि केंद्र से मिलने के बाद किसानों को मुआवजा देने का काम शुरू कर दिया जाएगा। इसके बाद निजी जमीन पर भी रेलवे द्वारा काम शुरू कर दिया जाएगा।

बनाई जाएंगी दो सुरंग :
इंदौर-बुधनी रेल लाइन में मांगलिया से करीब 53 किमी आगे बुधनी की तरफ देवलिया हथनौरा गांव के पास दो सुरंगे बनाई जाएंगी। एक सुरंग करीब 9 किमी लंबी होगी। दूसरी सुरंग की लंबाई डेढ़ किमी होगी। इस लाइन के बिछने से खातेगांव और कन्नौद क्षेत्र में विकास की नई राह खुल जाएगी। यहां से व्यापार और अन्य सुविधाओं का इजाफा होगा। खातेगांव, हरदा, भैरूंदा के लोगों को खासा लाभ होगा।

Harabhara Vatan

Harabhara Vatan

Next Story