आरबीआई इंक्रीमेंटल कैश रिजर्व रेशियो (आईसीसीआर) को चरणबद्ध तरीके से 7 अक्टूबर तक पूरी तरह खत्म करेगा। शनिवार को आईसीसीआर 25 फीसदी से कम किया जाएगा।

मुंबई। आरबीआई इंक्रीमेंटल कैश रिजर्व रेशियो (आईसीसीआर) को चरणबद्ध तरीके से 7 अक्टूबर तक पूरी तरह खत्म करेगा। शनिवार को आईसीसीआर 25 फीसदी से कम किया जाएगा। इसके बाद 23 सितंबर को 25 फीसदी और हटा दिया जाएगा। बाकी 50 फीसदी सात अक्टूबर को हटाया जाएगा। दरअसल, 2000 रुपए के नोट को परिचालन से बंद करने के फैसले के बाद बैंकों में नकदी बढ़ गई थी। इसे नियंत्रित करने के लिए आरबीआई ने आईसीसीआर लागू किया था। जब भी बैंक में नकदी तेजी से बढ़ती है इससे निपटने को आरबीआई अतिरिक्त आईसीसीआर शुरू करता है। इसका मतलब बैंकों को पहले से तय सीमा से ज्यादा पैसा आरबीआई के पास रखना होता है। आईसीसीआर खत्म होने से बैंकों को उनका पैसा वापस मिलेगा। इससे बैंक ज्यादा कर्ज दे पाएंगे।

विदेशी मुद्रा भंडार में 4.03 अरब डॉलर की बढ़ोतरी :
देश का विदेशी मुद्रा भंडार एक सितंबर को समाप्त सप्ताह में 4.03 अरब डॉलर बढ़कर 598.89 अरब डॉलर पहुंच गया। इससे पिछले सप्ताह में मुद्रा भंडार में तीन करोड़ डॉलर की गिरावट आई थी। आरबीआई के आंकड़ों के मुताबिक, एक सितंबर वाले हफ्ते में विदेशी मुद्रा संपत्ति 3.442 अरब डॉलर बढ़कर 530.691 अरब डॉलर पहुंच गई। स्वर्ण भंडार बढ़कर 44.93 अरब डॉलर पर पहुंच गया।

बॉब के 6,000 एटीएम में यूपीआई सुविधा :
बैंक ऑफ बड़ौदा ने देश के 6,000 एटीएम में यूपीआई से नकदी निकासी की सुविधा शुरू की है। यह पहला सरकारी बैंक है जिसने यह सुविधा शुरू की है। बैंक ने शुक्रवार को बताया कि उसके ग्राहक मोबाइल पर यूपीआई एप के जरिये बैंक के किसी भी एटीएम से बिना डेबिट कार्ड के नकदी निकाल सकते हैं। जितने भी खाते यूपीआई से जुड़े होंगे, सभी से निकासी होगी।

Updated On 9 Sep 2023 8:44 AM GMT
Harabhara Vatan

Harabhara Vatan

Next Story