चारों नकाबपोश करीब 20 मिनट तक कॉलोनी में घूमते रहे, हालांकि कॉलोनी में केवल एक ही सीसीटीवी कैमरा होने से चारों की कुछ ही सीसीटीवी फुटेज कैप्चर हुई हैं।

भोपाल। कटारा हिल्स, बागमुगालिया एक्सटेंशन, अरविंद विहार में लगभग एक माह से आतंक मचाए हुए चार नकाबपोश चोरों ने 15 फरवरी को बागसेवनिया थानांतर्गत ऋषिकेश विहार कॉलोनी में तड़के 3.20 से 3.40 के बीच कॉलोनी के एक मकान का ताला तोड़ने का प्रयास किया। चारों नकाबपोश करीब 20 मिनट तक कॉलोनी में घूमते रहे, हालांकि कॉलोनी में केवल एक ही सीसीटीवी कैमरा होने से चारों की कुछ ही सीसीटीवी फुटेज कैप्चर हुई हैं। रहवासियों के मुताबिक ऋषिकेश विहार के मकान नंबर 23 में रहने वाले अजय अपने परिवार के साथ बाहर गए हुए हैं। चारों नकाबपोशों ने उनके मकान का ताला तोड़ने का प्रयास करने लगे, लेकिन आसपास के रहवासियों के जाग जाने पर चारों भाग निकले। इसके बाद चारों कृष्णा आर्केड में रहने वाले डॉक्टर जोसेफ के मकान का ताला तोड़ने का प्रयास करने लगे। जबकि उस दौरान मकान के अंदर लोग मौजूद थे। बता दें कि इसके पहले यह चारों चोर बागमुगालिया एक्सटेंशन कॉलोनी में 6 घंटे तक टहलते हुए दिखे थे। इस दौरान चोर 2 लाख रुपए की मोटरसाइकिल ले जाने में कामयाब हो गए थे।

शंकराचार्य फ्लावर सिटी में दो मकानों में :
10 फरवरी की रात को बागसेवनिया स्थित शंकराचार्य फ्लावर सिटी में भी दो मकानों में घुसकर चोरी करने का मामला सामने आया है। इस घटना की एफआईआर बागसेवनिया थाने में दर्ज कराई गई है। रहवासियों ने बताया कि कॉलोनी कवर्ड कैंपस में है, लेकिन रात के समय तीन जगहों से चोरी छिपे प्रवेश किया जा सकता है। इस संबंध में रहवासियों ने बिल्डर सतीश विश्वकर्मा से बाउंड्री वॉल को दुरुस्त कराने को कहा है, लेकिन बाउंड्री वॉल ठीक नहीं हो सकी है। रहवासियों के अनुसार वर्तमान में कॉलोनी का मेंटेनेंस बिल्डर के पास ही है।

पुलिस गश्त को लेकर उठ रहे सवाल :
बागसेवनिया और कटारा हिल्स क्षेत्र में रहवासियों द्वारा लंबे समय से पुलिस गश्त को लेकर सवाल उठाए जा रहे हैं। रहवासियों की मानें तो विभिन्न कॉलोनियों में चोर लगातार चोरी की घटनाओं को अंजाम दे रहे हैं, लेकिन वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा सुरक्षा व्यवस्था को दुरुस्त करने को लेकर कोई ठोस कदम नहीं उठाए जा रहे हैं, जबकि यह चारों चोर घरों में लोगों की मौजूदगी के दौरान ही प्रवेश करने का प्रयास कर रहे हैं। ऐसे में यह चोरी के दौरान किसी भी व्यक्ति पर हमला भी कर सकते हैं।

कटारा हिल्स और बागसेवनिया में एक-एक टीम विशेष रूप से लगा रखी है। अन्य जोन में भी वीडियो फुटेज भेजे गए हैं। इनका पुराना रिकॉर्ड न होने से यह आइडेंटीफाइ नहीं हो पा रहे हैं। कुछ क्षेत्रों में गश्त भी बढ़ाई गई है।

-रजनीश कश्यप कौल, असिस्टेंट सीपी, मिसरोद

Harabhara Vatan

Harabhara Vatan

Next Story