चार साल पहले मध्य प्रदेश को हिलाकर रख देने वाले हनी ट्रैप कांड की कथित सरगना आरती दयाल को चोरी के एक मामले में बेंगलुरु से गिरफ्तार किया गया है।

भोपाल। मध्यप्रदेश के बहुचर्चित हनी ट्रैप कांड की आरोपी आरती दयाल को अब कर्नाटक पुलिस ने गिरफ्तार किया है। चार साल पहले मध्य प्रदेश को हिलाकर रख देने वाले हनी ट्रैप कांड की कथित सरगना आरती दयाल को चोरी के एक मामले में बेंगलुरु से गिरफ्तार किया गया है। पुलिस ने गुरुवार को यह जानकारी दी। वहां उसके रूममेट ने 10 लाख रुपये के गहने और नकदी की चोरी की शिकायत पुलिस थाने में की। बेंगलुरु की महादेवपुरा थाना पुलिस ने आरोपी आरती को गिरफ्तार कर लिया है। यह शिकायत 6 सितंबर को दर्ज की गई और पूछताछ के बाद आरोपी महिला को न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया। यानी आरती अब कर्नाटक की जेल में है सूत्र बताते हैं कि पुलिस ने चेन्नई में फरार आरोपी का पता लगाया और उसे गिरफ्तार कर लिया।

स्पा सेंटर थेरेपिस्ट का काम करती थी आरती :

पुलिस के मुताबिक, आरोपी स्पा सेंटरों में थेरेपिस्ट के तौर पर काम करती थी और एक सहकर्मी के कमरे पर रुकती थी। गिरफ्तारी के बाद उससे पूछताछ के दौरान पुलिस को आरोपी की पृष्ठभूमि के बारे में पता चला। कर्नाटक पुलिस ने सरगना की गिरफ्तारी की सूचना मध्य प्रदेश पुलिस विभाग को दे दी है। पुलिस बेंगलुरु में अन्य अपराधों में उसकी संलिप्तता की जांच कर रही है। पुलिस ने आरती, सोनू, सामंथा, अग्रवाल बनकर चेन्नई और अन्य शहरों में स्पा में काम करने वाले आरोपियों के बारे में भी जानकारी जुटाई है। मध्यप्रदेश में हनी ट्रैप कांड 2019 में सामने आया था, जब मध्य प्रदेश पुलिस ने इंदौर नगर निगम से जुड़े एक इंजीनियर को हनी ट्रैप में फंसाने के मामले में आरोपी की सहयोगी श्वेता को गिरफ्तार किया था। बाद की जांच में पता चला कि आरती दयाल के गिरोह ने सरकारी अधिकारियों, राजनेताओं और प्रभावशाली व्यक्तियों को निशाना बनाया और हनी ट्रैप ऑपरेशन को अंजाम दिया। राजनेताओं के वीडियो भी सामने आए, जिससे यह राष्ट्रीय स्तर पर चर्चा का विषय बन गई। आरती दयाल को 2020 में अदालत से जमानत मिल गई। मध्य प्रदेश उच्च न्यायालय की इंदौर पीठ ने हाल ही में सरकारी वकील से आरोपी के ठिकाने के बारे में पूछताछ की थी क्योंकि वह रडार से दूर हो गई थी। अब आरती फिर सलाखों के पीछे है।

Harabhara Vatan

Harabhara Vatan

Next Story