बैरसिया में वृक्षारोपण के लिए आरक्षित वन भूमि पर अतिक्रमण हटाने के दौरान शनिवार को बड़ा बवाल हो गया। अतिक्रमण को हटाने के लिए पहुंचे वन अमले पर अतिक्रमणकारियों ने जमकर पथराव किया।

भोपाल। बैरसिया में वृक्षारोपण के लिए आरक्षित वन भूमि पर अतिक्रमण हटाने के दौरान शनिवार को बड़ा बवाल हो गया। अतिक्रमण को हटाने के लिए पहुंचे वन अमले पर अतिक्रमणकारियों ने जमकर पथराव किया। इस दौरान अमले ने समझदारी से काम लेते हुए लोगों को जगह से बाहर निकालते हुए खदेड़ दिया और इस जगह पर फिर से अतिक्रमण न हो पाए। इसको लेकर चारों ओर छोटी छोटी जल संरचनाएं खुदवा दीं। बताया जा रहा है कि हमले अतिक्रमण कारियों ने वन विभाग की लगभग 4.5 हेक्टेयर जमीन पर अतिक्रमण कर रखा था।

अमले को देखते ही करने लगे पथराव :
एसडीओ आरएस भदौरिया ने बताया कि वन परिक्षेत्र बैरसिया की बाघापुरा बीट के ग्राम शेषापुरा में वन विभाग की भूमि क्रमांक आरएफ 84 पर अतिक्रमणकारी चार भाइयों राजेंद्र गुर्जर, बादल गुर्जर, क्रिश गुर्जर और पप्पू ने कब्जा कर रखा था। कब्जा की गई भूमि का क्षेत्रफल लगभग 4.5 हेक्टेयर से अधिक था। इसी भूमि पर वन विभाग को सघन पौधरोपण कर वन तैयार करना था, ताकि बैरसिया में भी वन भूमि सुरक्षित हो सके। लेकिन चारों भाइयों ने यहां कब्जा कर खेती की तैयारी शुरू कर दी थी, जिसे शनिवार सुबह अमल दल बल के साथ हटाने पहुंचा था। अमले को देखते ही चारों भाई अन्य लोगों के साथ मौके पर पहुंचे और पथराव करने लगे, जिसके बाद अमले ने कार्रवाई करते हुए चारों को हटाया और भूमि को सुरक्षित किया।

खेती रोकने बना दी जल संरचनाएं :
अमले ने वनभूमि पर खेती रोकने के लिए जेसीबी की मदद से सभी जगह छोटी छोटी जलसंरचनाओं का निर्माण करा दिया। इससे इस जगह पर खेती नहीं हो सकेगी और जल्दी ही विभाग यहां पर पौधरोपण कर जगह को आरक्षित कर देगा। एसडीओ भदौरिया ने बताया कि अमले पर पथराव करने और वन भूमि पर अतिक्रमण करने के मामले में चारों पर वन अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया गया है। जमीन के चारों ओर खंती और जल संरचनाएं खोदकर इसे पूरी तरह से सुरक्षित किया गया है।

वन परिक्षेत्र बैरसिया, समर्धा और नजीराबाद के अमले ने शनिवार को बैरसिया में वन विभाग की 4.5 हेक्टेयर भूमि को अतिक्रमण से मुक्त कराया। कार्रवाई के दौरान चार लोगों पर वन अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया गया है।

- आलोक पाठक, डीएफओ भोपाल

Updated On 22 Oct 2023 9:21 AM GMT
Harabhara Vatan

Harabhara Vatan

Next Story