डॉक्टर अनुज जैन ने बताया कि हमारे खून का एक भाग प्लाजमा होता है और इसमें ऐसे कई गुण होते हैं जो पुरानी से पुरानी चोटों को भी ठीक कर देता है।

भोपाल। एम्स भोपाल में एक नेशनल बैडमिंटन प्लेयर के घुटने के दर्द का इलाज पीआरपी थैरेपी के जरिए किया गया है। इतना ही नहीं जब खिलाड़ी को लगने लगा था कि उसका पूरा कैरियर की दाव पर लग गया है, तब एम्स में इलाज के बाद उसके मन में फिर से राष्ट्रीय स्तर पर खेलने की उम्मीद जाग गई है। एम्स से मिली जानकारी के अनुसार 11 बार राष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगिताओं में भाग ले चुके अजय जयसवाल को एक बार बैडमिंटन खेलते हुए घुटने में अचानक तेज दर्द होने लगा। यह दर्द इतना कुछ दिनों बाद इतना बढ़ गया कि खड़े होना भी मुश्किल हो गया। कई डॉक्टरों को दिखाने के बाद भी जब लाभ नहीं मिला तो उन्होंने एम्स भोपाल की पेन क्लीनिक की जानकारी मिली।

घुटने के टिश्यू हो गए थे खराब :
एम्स में अजय का इलाज पेन क्लीनिक के डॉक्टर अनुज जैन ने शुरू किया। डॉ. जैन ने अजय की जांच के बाद बताया कि उनके घुटने में सूजन है। यह स्थिति घुटने के टिश्यू खराब होने के बाद तब बनती है। जब जख्मी जगह से एडिमा निकलता है और मरीज की बीमारी को डायगनोस करना भी मुश्किल होता है। ऐसे में डॉक्टरों ने रियल टाइम अल्ट्रासाउंड की मदद से उनकी समस्या को पकडक़र प्लेटलेट रिच प्लाज्मा थैरेपी (पीआरपी) की मदद से उनका इलाज किया।

इस तरह होता है पीआरपी से इलाज :
डॉक्टर अनुज जैन ने बताया कि हमारे खून का एक भाग प्लाजमा होता है और इसमें ऐसे कई गुण होते हैं जो पुरानी से पुरानी चोटों को भी ठीक कर देता है। इस इलाज के लिए मरीज की शरीर से 20-25 एमएल खून निकालकर उसमें से प्लेटलेट रिच प्लाजमा अलग किया जाता है। फिर इसे चोट वाली जगह पर इंजेक्ट किया जाता है। विशेष रूप से खिलाडिय़ों को लगने वाली चोटों में यी थैरेपी बहुत गुणकारी है। डॉ. जैन ने बताया कि इस थैरेपी के माध्यम से अजय जयसवाल का कैरियर फिर से रिज्यूम हो पाया। अब वह राष्ट्रीय स्तर पर अपनी प्रतिभा का जौहर दिखा सकते हैं।

Updated On 27 Nov 2023 5:40 PM GMT
Harabhara Vatan

Harabhara Vatan

Next Story