हमीदिया अस्पताल में कैंसर मरीजों की परेशानी को दूर करने के लिए \नई शुरूआत की जा रही है। यहां बोनमैरो ट्रांसप्लांट यूनिट को स्थापित किए जाने पर काम चल रहा है।

भोपाल। हमीदिया अस्पताल में कैंसर मरीजों की परेशानी को दूर करने के लिए अब एक नई शुरूआत की जा रही है। यहां जल्द ही बोनमैरो ट्रांसप्लांट यूनिट को स्थापित किए जाने पर काम चल रहा है। अस्पताल प्रबंधन से मिली जानकारी अनुसार 13 मंजिला इमारत ब्लॉक 2 में बोनमैरो यूनिट को खोला जाएगा। इस बिल्डिंग के चौथे फ्लोर पर यह सुविधा शुरू की जाने के लिए तैयारी की जा रही है। आपको बता दें कि यहां फिलहाल निजी वार्ड बने हुए हैं, लेकिन बीते छह महीने की रिपोर्ट देखी जाए, तो निजी वार्ड की डिमांड मरीजों की ओर से कम ही आई है। इक्का-दुक्का वार्ड ही अभी तक बुक हुए हैं। ऐसे में यहां बनाए गए सुसज्जित वार्ड खाली पड़े हुए हैं।

ब्लड कैंसर के मरीजों को मिलेगा इलाज :
हमीदिया में बोनमैरो ट्रांसप्लांट की स्थापना विशेष रूप से ब्लड कैंसर के मरीजों के लिए की जा रही है। हमीदिया अस्पताल से मिली जानकारी अनुसार कैंसर ओपीडी में हर दिन दस से पंद्रह मरीज ब्लड कैंसर के आते हैं। वर्तमान इन मरीजों के लिए पूर्ण उपचार की व्यवस्था उपलब्ध नहीं है। इसके लिए मरीजों को ईदगाह हिल्स स्थित जवाहर लाल नेहरू कैंसर अस्पताल रेफर किया जाता है। हमीदिया में बोनमैरो यूनिट शुरू होने से यहां ब्लड कैंसर के मरीजों को पूर्ण इलाज मिलने लगेगा।

डायग्नोसिस के लिए बंकर निर्माण :
आने वाले कुछ सालों में हमीदिया अस्पताल में कैंसर का इलाज बहुत हद बेहतर हो जाएगा। क्योंकि जहां एक तरफ बोनमैरो यूनिट को खोलने की तैयारी है, वहीं दूसरी तरफ बंकर निर्माण पर भी काम चल रहा है। इस बंकर में रेडिएशन थैरेपी से जुड़ी तमाम मशीनों को इंस्टॉल किया जाएगा और मरीजों में विभिन्न प्रकार के कैंसर की जांच कर उसका उपचार शुरू किया जाएगा। हमीदिया अस्पताल में यह बंकर सेंट्रल दवा स्टोर रूम के पीछे बनाया जाना प्रस्तावित है। लगभग दो साल में यह बनकर तैयार हो जाएगा। इस बंकर में गामा कैमरा नाइफ कैमरा के अलावा पेट सीटी स्कैन, एमआरआई जैसी अत्याधुनिक मशीनें स्थापित की जाएंगी। वर्तमान में हमीदिया अस्पताल में कैंसर डिपार्टमेंट कमला नेहरू अस्पताल की बिल्डिंग में संचालित हैं। यहां इलाज सिर्फ कैंसर ओपीडी तक सीमित है। न तो मरीजों को कीमोथैरेपी की सुविधा है और न किसी प्रकार की मेजर सर्जरी मरीजों को मिल रही है।

पीआईयू द्वारा प्रस्ताव तैयार किया जा रहा है, मंजूरी मिलने के बाद बोनमैरो ट्रांसप्लांट यूनिट का काम शुरू कर दिया जाएगा।

-डॉ. आशीष गोहिया, अधीक्षक, हमीदिया अस्पताल

Harabhara Vatan

Harabhara Vatan

Next Story