हृदय रोग विशेषज्ञ डॉ. आरएस मीणा बताते हैं कि ठंड बढ़ने के कारण रक्त गाढ़ा हो जाता है, जिसका सीधा असर धमनियों में रक्त प्रवाह पर पड़ता है।

हराभरा वतन। बदले मौसम ने अस्पताल में मरीजों की भीड़ बढ़ा दी है। कड़ाके की ठंड के कारण हार्ट अटैक के मामले बढ़ गए हैं। अस्थमा के मरीजों को भी दिक्कत हो रही है। भोपाल के हमीदिया और जेपी अस्पताल के साथ पूरे देश के अस्पतालों में रोज हजारों मरीज उपचार के लिए पहुंच रहे हैं। डॉक्टरों का कहना है कि कोविड के बाद हार्ट और लंग्स कमजोर हो गए हैं। ऐसे में मौसम का बदलाव नुकसान दायक हो सकता है। अगर मौसम एक दो दिन और ऐसा ही रहता है तो हार्ट अटैक के साथ ब्रेन स्ट्रोक और अस्थमा के मरीजों की संख्या बढ़ जाएगी। हृदय रोग विशेषज्ञ डॉ. आरएस मीणा बताते हैं कि ठंड बढ़ने के कारण रक्त गाढ़ा हो जाता है, जिसका सीधा असर धमनियों में रक्त प्रवाह पर पड़ता है।

अस्पताल में मरीज सीने में दर्द और जकड़न जैसे लक्षणों की समस्या के साथ पहुंच रहे हैं। चिकित्सकों का कहना है कि मौसम ऐसा ही रहा तो यह संख्या और बढ़ जाएगी। न्यूरो सर्जन डॉ. आईडी चौरसिया बताते हैं कि इन दिनों हर रोज ब्रेन स्ट्रोक के एक दो मामले आ रहे हैं। आने वाले दिनों में यह संख्या और बढ़ेगी।

इन बातों का रखें ध्यान :
- घर से बाहर निकलते हुए पर्याप्त कपड़े पहन कर ही निकलें।

- संतुलित, पोषक और ताजा भोजन खाएं। नमक का सेवन कम करें।

- अस्थमा के मरीजों के कोहरा घातक साबित होता है। अस्थमा के मरीजों को कोहरे में घर से बाहर नहीं निकलना चाहिए।

- हृदय रोगी नियमित दवा लेते रहें

- रक्तचाप के रोगियों को भी लगातार दवा लेती रहनी चाहिए।

- ठंडी चीजों का सेवन करने से बचें।

यह लक्षण दिखें तो डॉक्टर से करें संपर्क :

- सिरदर्द

- सीने में जकड़न और दर्द

- मांसपेशियों में दर्द

- खांसी-जुकाम

- सांस लेने में दिक्कत

- बुखार

- हाथ-पैर ठंडे और सुन्न होना

शीत लहर में बढ़ जाता है इन बीमारियों का खतरा :

एग्जिमाः
स्किन से रिलेटेड प्रॉब्लम्स सर्दियों में कॉमन है। एग्जिमा किसी भी उम्र में हो सकता है। इसमें स्किन सूखी, लाल और पपड़ीदार हो जाती है और खुजली होने लगती है। ज्यादा ठंड होने पर यह समस्या बढ़ जाती है।

अर्थराइटिसः सर्दियों का मौसम अर्थराइटिस पेशेंट्स के लिए मुश्किल होता है। इस समय उनके जोड़ों का दर्द और सूजन बढ़ जाती है।

अस्थमाः सर्दियों में सांस की नली में सूजन बढ़ जाती है। इस वजह से सांस लेने का रास्ता छोटा हो जाता है और सांस लेने में परेशानी होती है। इससे खांसी और सीने में जकड़न भी महसूस होती है।

दिल की बीमारीः सर्दियों में दिल ठीक से ब्लड पंप नहीं कर पाता जिससे हार्ट अटैक का खतरा बढ़ जाता है।

Harabhara Vatan

Harabhara Vatan

Next Story