किशमिश में पोटेशियम की अच्छी खासी मात्रा पाई जाती हैं, तो बीपी को नियंत्रित करने के लिए जरूरी है।

हराभरा वतन। किशमिश किसे पसंद नहीं होती, सुबह सुबह काजू या पिस्ते के साथ किशमिश का काम्बीनेशन किसे पसंद नहीं? लेकिन आज हम आपको किशमिश खाने का सही तरीका बताने जा रहे हैं। इतना ही नहीं किशमिश के फायदे सुनकर भी आप हैरान रह जाएंगे। ऐसा माना जाता है कि फायदे में किशमिश अंगूर से भी ज्यादा फायदेमंद है। इसके फाइबर के साथ अन्य पोषक तत्व भी होते हैं, जो स्वास्थ्य के लिए लाभदायक हैं। तो आइए जानते हैं कि किशमिश में पाए जाने वाले पोटेशियम, कैल्शियम, आयरन और इसके एंटीऑक्सीडेंट गुण का लाभ लेने के लिए आपको किस तरह से इसका सेवन करना है?

इस तरह से करें किशमिश का सेवन :
किशमिश में पाए जाने वाले गुणों का लाभ लेने के लिए इसे पानी में भिगाकर ही इसका सेवन करें। इसके लिए किशमिश को रात में अच्छी तरह से धोकर साफ कर लें और लगभग 25 से 30 किशमिश को लगभग 12 घंटे के लिए एक कटोरी पानी में भिगाकर रखें। सुबह खाली पेट इस पानी को पी लें और इसके ऊपर किशमिश को चबाचबाकर खालें। इससे आपकी सेहत भी सुधरेगी और त्वचा के दाग धब्बे भी दूर हो जाएंगे।

मिलते हैं यह सारे लाभ :

- किशमिश में पोटेशियम की अच्छी खासी मात्रा पाई जाती हैं, तो बीपी को नियंत्रित करने के लिए जरूरी है।

- इसके मौजूद पोटेशियम रक्त वाहिकाओं को रिलेक्स करता है, जिससे ब्लड का फ्लो धीरे धीरे नॉर्मल हो जाता है।

- किशमिश में एंटीऑक्सीडेंट गुण दिल के लिए काफी फायदेमंद हैं। इसमें मिलने वाला पालीफेनॉल्स हृदय के लिए लाभकारी हैं।

- भीगी हुई किशमिश पाचन को भी सुधारती हैं, क्योंकि इसमें फाइबर भी भरपूर मात्रा में मिलता है।

- इसके लगातार सेवन से पेट साफ रहता है जिससे कब्ज, गैस, एसिडिटी की समस्या खत्म हो जाती है।

- यह कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करती है। वहीं डाइजेशन सुधरने से मेटाबॉलिज्म बढ़ता है, जिससे भूख नियंत्रित होती है और वजन नहीं बढ़ता।

- किशमिश में कैलोरी की मात्रा बहुत कम होती है।

Harabhara Vatan

Harabhara Vatan

Next Story