सर्दियों में अर्जुन की छाल का सेवन करने से आप ब्लड प्रेशर, कोलेस्ट्रॉल सहित कर्डियक अटैक तक से बच सकते हैं। कई डॉक्टर भी हार्ट पेशेंट्स को स्वस्थ रहने के लिए अर्जुन की छाल का सेवन करने के बारे में कहते हैं।

हराभरा वतन। सर्दियों के मौसम में यदि स्वस्थ रहना चाहते हैं, तो अपनी स्पेशल डाइट के साथ ग्रीन टी का भी सेवन कर सकते हैं। ऐसे ही एक पेड़ की छाल है, जिसका प्रयोग आप ग्रीन टी के रूप में करते हैं, तो आप शारीरिक रूप से स्वस्थ तो होंगे ही। साल भर आप कई गंभीर बीमारियों से भी बचे रहेंगे। दरअसल सर्दियों में अर्जुन की छाल का सेवन करने से आप ब्लड प्रेशर, कोलेस्ट्रॉल सहित कर्डियक अटैक तक से बच सकते हैं। कई डॉक्टर भी हार्ट पेशेंट्स को स्वस्थ रहने के लिए अर्जुन की छाल का सेवन करने के बारे में कहते हैं। हालांकि अर्जुन की छाल के प्रयोग से दिल के साथ-साथ अन्य अंगों को भी स्वस्थ रखा जा सकता है।

इस कारण बेहतरीन है अर्जुन की छाल :
दरअसल अर्जुन की छाल में भरपूर मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट गुण पाए जाते हैं , जो कई मौसमी बीमारियों से आपको बचाते हैं। इसके अलावा इसमें मौजूद एल्केलाइन गुण पेट की एसिडिटी को खत्म करने में भी मदद करते हैं। आयुर्वेद के अनुसार अर्जुन की छाल रक्त की अम्लता को भी खत्म कर देती है। आयुर्वेद में यह गुण केवल इसी में पाया जाता है।

यह होते हैं अर्जुन की छाल के फायदे :
- डायबिटीज से पीडि़त लोग यदि अर्जुन की छाल का प्रयोग करते हैं, तो डायबिटीज को कंट्रोल कर सकते हैं। इसमें हाई शुगर लेवल को कंट्रोल करने के गुण होते हैं। एंटी डायबिटिक गुण के कारण यह शुगर लेवल कंट्रोल करने में सहायक है।

- इसके नियमित सेवन करने से ठंड के मौसम में सर्दी खांसी की समस्या नहीं होती है। फेफड़े भी स्वस्थ रहते हैं।

- अर्जुन की छाल के पानी या इसकी चाय के सेवन से एसिडिटी, एसिड रिफलक्स, पेट में जलन और गैस की समस्या पूरी तरह से ठीक हो जाती है और पाचन क्रिया दुरुस्त होती है।

- अस्थमा की समस्या में भी अर्जुन की छाल का सेवन किया जा सकता है।

इस तरह कर सकते हैं प्रयोग :
रात को एक छोटा चम्मच एक गिलास पानी में घोलकर रख दें। सुबह खाली पेट इस पानी का उपयोग किया जा सकता है। इसके अलावा एक गिलास पानी में एक छोटा चम्मच अर्जुन की छाल का डालकर उसे तब तक उबालें, जब तक पानी आधा न रह जाए। इसके बाद इसे चाय की तरह पिया जा सकता है। इसक अलावा दूध में भी अर्जुन की छाल को उबालकर काढ़ा बनाया जा सकता है और इसका सेवन इन सभी तरीकों से सभी बीमारियों में लाभ देता है।

Harabhara Vatan

Harabhara Vatan

Next Story