सर्दी का मौसम शुरू हो चुका है और धीरे धीरे मौसम में ठंडक बढ़ती जा रही है। ऐसे में लोगों को सर्दी, जुकाम, बुखार और वायरल फीवर जैसी बीमारियां घेर रही हैं। ऐसे में हम आज तुलसी के पौधे के ऐसे चमत्कारिक प्रयोग बता रहे हैं,

हराभरा वतन। सर्दी का मौसम शुरू हो चुका है और धीरे धीरे मौसम में ठंडक बढ़ती जा रही है। ऐसे में लोगों को सर्दी, जुकाम, बुखार और वायरल फीवर जैसी बीमारियां घेर रही हैं। ऐसे में इन सब परेशानियों से बचने के लिए लोग विभिन्न तरह के घरेलू उपायों को आजमाते हैं। ऐसे में हम भी आज हर घर में पाए जाने वाले तुलसी के पौधे के ऐसे चमत्कारिक प्रयोग बता रहे हैं, जो सर्दियों में आपको बीमारियों से तो दूर रखेंगे ही और इसके लगातार प्रयोग से आप अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता को भी मजबूत कर सकेंगे। तो आइए जानते हैं ठंड में कैसे करें तुलसी के पत्तों का प्रयोग…

ठंड के दौरान इस तरह करें प्रयोग :
सर्दी के मौसम में बीमारियों से बचने के लिए तुलसी के पत्तों का प्रयोग कई तरह से किया जाता है। मुख्य रूप से तुलसी के पत्तों की चाय काफी लाभकारी होती है। इसके लिए दो कप पानी में पांच तुलसी के पत्ते, पांच काली मिर्च, दो लोंग, दालचीनी और सौंठ को उबालना चाहिए। मिठास के लिए गुड़ का उपयोग कर सकते हैं। इससे सर्दी, जुकाम और खांसी में लाभ होता है। इसके अलावा सुबह सुबह दो तुलसी के पत्तों को जीभ पर रखकर उनका रस चूसना चाहिए। तुलसी को चबाने से बचना चाहिए।

एंटीबैक्टीरियल तत्व करते हैं बैक्टीरिया पर वार :
तुलसी के पत्तों में एंटीबैक्टीरियल तत्व पाए जाते हैं, ऐसे में इनका प्रयोग करने से इम्युनिटी बढ़ती है और यह बीमार करने वाले बैक्टीरिया पर सीधा वार करते हैं। तुलसी के पत्तों का सुबह सुबह सेवन करने से मुंह के बैक्टीरिया भी खत्म होते हैं, जिससे मुंह की दुर्गंध की समस्या को खत्म किया जाता है। इसके अलावा यह डायबिटीज में भी लाभकारी मानी गई है। डायबिटीज से पीड़ित लाेग भी तुलसी के पत्तों का सेवन कर सकते हैं। दरअसल यह इंसुलिन के उत्पादन को बढ़ाती है।

Harabhara Vatan

Harabhara Vatan

Next Story