ऐसे में वे लोग जिनका नाम किसी कारणवश मतदाता सूची से कट चुका है। अब बूथ लेवल आफिसर (बीएलओ) के फिजिकल वेरिफिकेशन के बाद ही उनका नाम मतदाता सूची में जुड़ सकेगा।

भोपाल। विधानसभा चुनाव से पूर्व मतदाता सूची की अशुद्धियां दूर करने का काम चल रहा है। ऐसे में वे लोग जिनका नाम किसी कारणवश मतदाता सूची से कट चुका है। अब बूथ लेवल आफिसर (बीएलओ) के फिजिकल वेरिफिकेशन के बाद ही उनका नाम मतदाता सूची में जुड़ सकेगा। इसके अलावा हर मतदान केंद्र के बीएलओ को अपने-अपने मतदान केंद्र का सर्वे कर मतदाता सूची की शुद्धता का काम पूरा करना होगा। दरअसल निर्वाचन आयोग द्वारा मतदाता सूची के पुनरीक्षण कार्य की समय सीमा 11 सितंबर तक बढ़ाई गई है। ऐसे में अंतिम सात दिनों में मतदाता सूची में दोबारा नाम जुड़वाने के लिए आ रहे लोगों का नाम जोडऩे से पहले मौके पर जाकर फिजिकल वेरिफिकेशन भी करना होगा।

एक ही मतदान केंद्र पर होंगे परिवार के सभी सदस्यों के नाम :
बीएलओ को इस बात का भी विशेष ध्यान रखना होगा कि एक परिवार के सभी सदस्यों के नाम एक ही मतदान केंद्र पर हों। जिन लोगों के नाम मतदाता सूची में दो बार हैं। उनकी भी जांच की जा रही है। बीएलओ मौके पर जाकर मतदाता के आधार नंबर, समग्र आईडी और एड्रेस प्रूफ का वेरिफिकेशन करेंगे। फोटो में समानता होने पर भी मौके पर जाकर सत्यापन किया जाएगा। मतदाता सूची में जिन मतदाताओं के फोटो साफ नहीं हैं। उनके नए फोटो भी मोबाइल से ही अपलोड किए जाएंगे।

मतदान केंद्र की सुविधाओं की भी ऑनलाइन देनी होगी जानकारी :
मतदान केंद्र पर उपलब्ध सभी सुविधाओं की जानकारी भी उपलब्ध बीएलओ को उपलब्ध करानी होगी। इसके लिए बीएलओ को मतदान केंद्र पर मौजूद होकर मतदान भवन की लेटेस्ट फोटो अपलोड कर मतदान केंद्र की अच्छी या बुरी स्थिति की जानकारी देनी होगी और उपलब्ध सुविधाओं का ब्यौरा देना होगा। मुख्य निर्वाचन अधिकारी के अनुसार इस दौरान एक अक्टूबर को 18 वर्ष के हो रहे युवाओं के नाम विशेष रूप से मतदाता सूची में जोड़े जाएं। इसके अलावा पहले छूटे हुए मतदाताओं के नाम भी मतदाता सूची में विशेष रूप से जोड़े जाएंगे।

Updated On 5 Sep 2023 12:20 PM GMT
Harabhara Vatan

Harabhara Vatan

Next Story