आज हम मेट्रो का ट्रायल सुभाष नगर से रानी कमलापति स्टेशन के बीच कर रहे हैं, लेकिन भविष्य में विदिशा, सीहोर, मंडीदीप और रायसेन तक मेट्रो विस्तार किया जाएगा। इससे शहर में रोजगार के अवसर तो बढ़ेंगे।

भोपाल। आज हम मेट्रो का ट्रायल सुभाष नगर से रानी कमलापति स्टेशन के बीच कर रहे हैं, लेकिन भविष्य में विदिशा, सीहोर, मंडीदीप और रायसेन तक मेट्रो विस्तार किया जाएगा। इससे शहर में रोजगार के अवसर तो बढ़ेंगे। आसपास के जिले भी भोपाल से पूरी तरह से कनेक्ट हो जाएंगे। यह बात मंगलवार को सीएम शिवराज सिंह चौहान ने शहर की फ्यूचर ट्रांसपोर्ट कनेक्टिविटी की जानकारी देते हुए कही। इस दौरान सीएम ने मेट्रो के ट्रायल रन को हरी झंडी दिखाने के बाद सुभाष नगर से रानी कमलापति के बीच मेट्रो में सफर भी किया। सीएम ने कहा कि मेट्रो के संचालन से प्रदूषण में भी बड़े स्तर पर गिरावट आएगी। भोपाल को स्वच्छ और प्रदूषण मुक्त राजधानी बनाने में हमने काम शुरू कर दिया है। बता दें कि मेट्रो टीम द्वारा तीन माह बाद जनवरी 2024 से सुभाष नगर से एम्स के बीच 7 किमी लंबे ट्रैक पर मेट्रो का परिचालन शुरू होने की बात कही जा रही है।

पांच किमी के क्षेत्र में 90 दिन में बिछाईं पटरियां और थर्ड रेल :
सुभाष नगर से आरकेएमपी तक पटरियां बिछाने के लिए मेट्रो टीम ने कीर्तिमान रचते हुए 90 दिन में काम पूरा किया है। वहीं ट्रायल ट्रैक पर नौ किमी की पटरियां बिछाने में केवल पांच महीने का समय लिया गया है। इसके साथ ही पटरियों के साथ चलने वाली ट्रेक्शन थर्ड रेल, जो विद्युत आपूर्ति करती है। सात टर्नआउट्स का भी इलेक्ट्रिफिकेशन किया गया। इसके अलावा 60 दिन में पांच लिफ्ट और चार एस्केलेटर लगाए गए हैं। सीएम ने इन सभी उपलब्धियों के लिए मेट्रो के इंजीनियर और वर्कर्स का आभार माना। बता दें कि टीम ने तेज बारिश के बीच भी दो से तीन शिफ्ट में तेजी से काम कर ट्रायल रन को सफल बनाया है।

तांगे वाले भोपाल की पहचान बनेगी मेट्रो :
सीएम ने इस दौरान अपने पुराने दिनों को याद करते हुए कहा कि कभी शहर अपने तांगों के लिए पहचाना जाता था, लेकिन अब मेट्रो शुरू हो जाने से हमारा तांगे वाला भोपाल मेट्रो रेल वाला भोपाल हो गया है। हमने एक सप्ताह में प्रदेश के दो शहरों में मेट्रो का ट्रायल रन किया है। इन्दौर के बाद भोपाल में भी नई परिवहन क्रांति का सूत्रपात हो रहा है। जिस राज्य को सडक़ों के गड्ढों के लिए जाना जाता था, उसके दो राज्यों में मेट्रो की सुविधा मिलेगी।

इन सुविधाओं से लेस रहेगी मेट्रो :मेट्रो के कोच स्मार्ट लाइटिंग, एयर कडिंशन्स, स्मार्ट डिस्पले, एआई सीसीटीवी कैमरे जैसी सुविधाओं से लैस होंगे। जिससे मेट्रो में सफर आरामदेह और सुविधाजनक भी होगा। ट्रैक सहित कोच के अंदर भी लगातार निगरानी की जाएगी। स्टेशन तक पहुंचने सुविधाजनक और सुलभ होगा। लिफ्ट एवं एस्केलेटर के माध्यम से सीनियर सिटीजन और छोटे बच्चे भी बिना किसी परेशानी के ट्रेन तक पहुंच सकेंगे। टिकट बुकिंग करने के लिए विशेष व्यवस्था होगी। बिना लाइन में लगे ऑनलाइन टिकट बुक किए जा सकेंगे। तेज गति का परिवहन होने के कारण साइकिल, मोटर साइकिल और कार चालक इससे सफर कर सकेंगे। एयर कंडिशन कोच में सफर आसान और सुविधाजनक होगा।

इन मार्गों से होकर चलेगी मेट्रो :
लगभग 6 हजार 941 करोड़ की भोपाल मेट्रो परियोजना दो रूट पर संचालित की जाएगी। लगभग 31 किलोमीटर की परियोजना में करोंद चौराहे से एम्स तक 16.77 किमी ट्रैक में मेट्रो का संचालन होगा। इसके अलावा बीएचईएल स्थित रत्नागिरि तिराहे से भदभदा चौराहे तक 14.18 किमी ट्रैक पर भी मेट्रो का संचालन होगा। इससे शहर पूरी तरह से मेट्रो कनेक्टिविटी से जुड़ जाएगा। मेट्रो टीम के अनुसार 2024 तक इस पूरी परियोजना को पूरा कर लिया जाएगा।

Updated On 6 Oct 2023 8:03 AM GMT
Harabhara Vatan

Harabhara Vatan

Next Story