प्रधानमंत्री देश की जनता से जो भी आव्हान करते है उसे व्यापक समर्थन मिलता है। यह बात रविवार को भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा ने मन की बात कार्यक्रम के 107वें संस्करण को सुनने के बाद कही।

भोपाल। प्रधानमंत्री ने रविवार को मन की बात कार्यक्रम में देशवासियों से विदेशों में न जाकर भारत में ही अपनी संस्कृति में डेस्टिनेशन वेडिंग करने का आव्हान किया। इसके साथ ही लोकल फॉर वोकल को ध्यान में रख ज्यादा से ज्यादा खरीदारी की बात कही। प्रधानमंत्री देश की जनता से जो भी आव्हान करते है उसे व्यापक समर्थन मिलता है। यह बात रविवार को भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा ने बंसल वन स्थित भाजपा के प्रदेश मीडिया सेंटर में प्रधानमंत्री मोदी के मन की बात कार्यक्रम के 107वें संस्करण को सुनने के बाद कही।

इस अवसर पर शर्मा ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मन की बात कार्यक्रम में उन लोगों का जिक्र करते हैं, जो बिना प्रसिद्धि के नि:स्वार्थ भाव से हमेशा देश और समाज के लिए काम करते हैं। इससे समाज सेवा के प्रति उनके जज्बे को प्रोत्साहन मिलता है।

दिव्यांगों के लिए किया गया था विशेष इंतजाम :
खास बात यह रही कि कार्यक्रम में विशेष रूप से दिव्यांग जनों और दिव्यांग बच्चों को भी आमंत्रित किया गया था। कार्यक्रम के बाद दिव्यांग जनों को गर्म वस्त्र भेंट किए गए। कार्यक्रम की जानकारी देने के लिए इंटर प्रिटेटर उपस्थित थे, जिन्होंने साइन लैंग्वेज के जरिए दिव्यांगों को प्रधानमंत्री के उद्बोधन की जानकारी दी। कार्यक्रम के पूर्व बटुकों ने वैदिक रीति रिवाज से वेद पाठ भी किया। आयोजन के दौरान प्रदेश संगठन महामंत्री हितानंद व पूर्व मंत्री व विधायक अजय विश्नोई भी उपस्थि थे।

4 लाख करोड़ से अधिक का हुआ है व्यवसाय :
प्रदेश अध्यक्ष शर्मा ने कहा कि पीएम की अपील का ही नतीजा है कि दीपावली पर 4 लाख करोड़ से अधिक का लोकल व्यवसाय हुआ। खासकर के लोग इस समय मेड इन इंडिया की ओर विशेष ध्यान दे रहे हैं। इस अवसर पर प्रदेश कार्यालय मंत्री व मन की बात कार्यक्रम के प्रदेश प्रभारी डॉ. राघवेंद्र शर्मा ने कहा कि भौतिक नेत्रों की इतनी क्षमता नहीं कि वे भगवान और आध्यात्मिकता का पूरा दर्शन कर सकें। यही कारण है कि व्यक्ति आंखे बंद करके मन से भगवान के दर्शन करता है। विज्ञान आज जहां है या जहां पहुंचेगा, वह हमारे वेदों के आधार पर ही संभव होगा।

Updated On 26 Nov 2023 3:21 PM GMT
Harabhara Vatan

Harabhara Vatan

Next Story