सीएम डॉ.यादव ने कहा कि अयोध्या धाम सहित प्रदेश के अंदर और प्रदेश के बाहर स्थित प्रमुख देवस्थान में राज्य सरकार द्वारा धर्मशालाएं विकसित करने की दिशा में पहल की जाएगी

भोपाल। मुख्यमंत्री डॉ.मोहन यादव ने कहा कि सरकार प्रदेश के देवस्थानों की शक्ल सूरत बदलेगी। साथ ही देव स्थानों की उपयोगिता बढ़ाने सभी विभाग मिलकर कार्य करेंगे। मुख्यमंत्री डॉ मोहन यादव ने मंत्रालय में कैबिनेट की बैठक से पहले मंत्रियों को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि मंत्री परिषद के सदस्यों का भगवान श्री राम के दर्शन के लिए शासकीय रूप से अयोध्या जाना ऐतिहासिक दृष्टि से महत्वपूर्ण अवसर है। उन्होंने कहा कि यह यात्रा भगवान श्री राम के प्रति आदर का प्रकटीकरण है। इस यात्रा के बाद देवस्थानों के संबंध में लिए गए निर्णय और संकल्पों के क्रियान्वयन में सरकार तेजी से आगे बढ़ेगी । इसके लिए मंडलीय उप समिति बनाकर धर्मस्व, राजस्व और संस्कृति विभाग को आपस में जोड़ा जाएगा। एक वरिष्ठ अधिकारी इन विभागों के प्रभारी होंगे। ग्रामीण क्षेत्र में स्थित देवस्थानों के लिए पंचायत एवं ग्रामीण विकास तथा नगरीय क्षेत्र में स्थित देवस्थानों के लिए नगरीय विकास एवं आवास विभाग भी इसमें शामिल रहेंगे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य शासन का उद्देश्य यह है कि मंदिर देवस्थान के साथ-साथ सामाजिक चेतना और समरसता का भी केंद्र बनें और मंदिरों में सामूहिक विवाह जैसे सामाजिक कार्य संपन्न हो। अयोध्या धाम सहित प्रदेश के अंदर और प्रदेश के बाहर स्थित प्रमुख देवस्थान में राज्य सरकार द्वारा धर्मशालाएं विकसित करने की दिशा में पहल की जाएगी, अन्य राज्य सरकारों को मध्य प्रदेश स्थित देवालयों में अपने राज्य की तरफ से धर्मशालाएं विकसित करने के लिए भी प्रोत्साहित किया जाएगा।

फरवरी में लिया था अयोध्या जाने का निर्णय :
मुख्यमंत्री रविवार को लखनऊ (यूपी) दौरे पर थे। वहां से भोपाल लौटने के बाद उन्होंने कहा था, भगवान श्रीराम और श्रीकृष्ण के जन्म स्थान और बाबा विश्वनाथ के पवित्र धाम में आनंद से सराबोर होकर लौटा हूं। फरवरी में अयोध्या में अधिक भीड़ होने और अन्य व्यस्तताओं के कारण मध्यप्रदेश मंत्रिमंडल के सदस्यों ने मार्च में अयोध्या में भगवान श्री राम के दर्शन करने जाने का निर्णय लिया था। यह हमारी श्रद्धा है, हम सनातन संस्कृति को मानने वाले भी हैं। हमारी आस्था का केंद्र आज जब सबकी श्रद्धा के रूप में उभरकर सामने आया है, तो स्वाभाविक रूप से सबकी भावना भी जुड़ गई है।

जगह मिलने पर अयोध्या में बनाएंगे मप्र भवन :
अयोध्या यात्रा से एक रोज पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने बताया था कि अगर उचित जगह मिल जाएगी तो मध्यप्रदेश से जाने वाले लोगों के लिए मप्र भवन का निर्माण भी अयोध्या में कराया जाएगा। इसके अलावा सरयू नदी के किनारे सम्राट विक्रमादित्य के नाम पर घाट बनाने का काम भी किया जाएगा।

Harabhara Vatan

Harabhara Vatan

Next Story