पाकिस्तान ए टीम ने मोहम्मद हारिस की कप्तानी में इमर्जिंग एशिया कप 2023 के फाइनल मैच में इंडिया ए टीम को 128 रन से हराकर लगातार दूसरी बार चैंपियन बनने का गौरव हासिल किया।

कोलंबो। पाकिस्तान ए टीम ने मोहम्मद हारिस की कप्तानी में इमर्जिंग एशिया कप 2023 के फाइनल मैच में इंडिया ए टीम को 128 रन से हराकर लगातार दूसरी बार चैंपियन बनने का गौरव हासिल किया। पाकिस्तान की टीम ने भारत को 10 साल के बाद फाइनल में हराया और 2013 का अपना बदला पूरा कर लिया। साल 2013 में जब पहली बार इस टूर्नामेंट की शुरूआत की गई थी तब इंडिया ए ने पाकिस्तान को फाइनल मैच में 9 विकेट से हराकर खिताब जीता था। इस मैच में पाकिस्तान ने पहले खेलते हुए 50 ओवर में 8 विकेट पर 352 रन का बड़ा स्कोर बनाया और इतने बड़े स्कोर के जवाब में भारतीय टीम ने संघर्ष किया और 40 ओवर में 224 रन पर आउट हो गई। इस तरह से यश ढुल की कप्तानी में भारत का दूसरी बार चैंपियन बनने का सपना टूट गया साथ ही पाकिस्तान ने अपना खिताब बरकरार रखा। वो पिछले सीजन में यानी 2019 में भी विनर थे। आइए आपको बताते हैं टीम इंडिया की हार के क्या मुख्य कारण रहे।

तैयब ताहिर की शतकीय पारी :
इस मैच में सबसे बड़ा फर्क तैयब ताहिर की शतकीय पारी ने की जिन्होंने 71 गेंदों पर 4 छक्के और 12 चौकों की मदद से 108 रन की पारी खेली और टीम के स्कोर को 352 रन पर पहुंचाने में बड़ा योगदान दिया। इसके अलावा पाकिस्तान के ओपनर बल्लेबाजों ने भी अच्छा खेला और पहले विकेट के लिए 121 रन की मजबूत साझेदारी करते हुए टीम को अच्छी स्थिति में ला दिया।

भारत ने लिया पहले गेंदबाजी करने का गलत फैसला :
भारतीय टीम ने टॉस जीता था और पहले गेंदबाजी करने का फैसला किया वो भी तब जब पिच पूरी तरह से फ्लैट नजर आ रही थी। पाकिस्तान ने इससे पहले यानी सेमीफाइनल मुकाबले में भी पहले बल्लेबाजी करते हुए 300 से ज्यादा का स्कोर बनाया था। वहीं फाइनल में दवाब ज्यादा होता है ऐसी स्थिति में भारत को टॉस जीतने के बाद बल्लेबाजी का फैसला करना चाहिए था। पहले गेंदबाजी करना भारत के हक में नहीं रहा और पाकिस्तान की टीम ने 352 रन का बड़ा स्कोर बना दिया।

शीर्ष क्रम के बल्लेबाज रहे फेल, नहीं हो पाई बड़ी साझेदारी :
भारतीय टीम के शीर्ष क्रम के बल्लेबाज पूरी तरह से फेल रहे और अभिषेक शर्मा को छोड़कर अन्य कोई भी बल्लेबाज रन बनाने में कामयाब नहीं हो पाया। अभिषेक शर्मा ने 61 रन की पारी खेली, लेकिन अन्य बल्लेबाजों में साई सुदर्शन, यश ढुल, निशांत सिंधू सब फेल रहे। पाकिस्तान की टीम को नियमित अंतराल पर विकेट मिलता चला गया और भारत की तरफ से कोई बड़ी साझेदारी देखने को नहीं मिली।

भारतीय गेंदबाजों का ढीला प्रदर्शन :
इस मैच में भारतीय गेंदबाज ज्यादा प्रभावी नहीं दिखे। पहली पारी में पाकिस्तान ने जिस गति से रन बनाना शुरू किया था वो आखिरी तक बना रहा। बीच में तीन विकेट जरूर जल्दी गिरे, लेकिन बाद में उनके बल्लेबाज रन बनाने में पहले ही तरह ही कमायाब रहे। भारतीय तेज गेंदबाज तेज गति से बन रहे रन पर किसी भी वक्त अंकुश लगाने में सफल नहीं रहे।

Harabhara Vatan

Harabhara Vatan

Next Story