भारत और वेस्टइंडीज टी20 सीरीज का पहला मुकाबला इंडीज टीम ने 4 रन से जीत लिया है। इसके साथ ही वेस्टइंडीज ने पांच मैच की सीरीज में 1-0 की बढ़त बना ली है।

नई दिल्ली। भारत और वेस्टइंडीज टी20 सीरीज का पहला मुकाबला इंडीज टीम ने 4 रन से जीत लिया है। इसके साथ ही वेस्टइंडीज ने पांच मैच की सीरीज में 1-0 की बढ़त बना ली है। इस मैच में वेस्टइंडीज ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए 6 विकेट पर 149 रन बनाए थे जिसके जवाब में भारतीय टीम 9 विकेट खोकर 145 रन ही बना सकी। इस मैच में तिलक वर्मा को छोड़ भारत का कोई भी बल्लेबाज आशा के अनुरूप प्रदर्शन नहीं कर सका। यह भारत का 200वां टी20 मैच था और टीम इंडिया ऐसा करने वाली दूसरी टीम है। भारत से पहले पाकिस्तान की टीम 200 से ज्यादा टी20 मैच खेल चुकी है। इस मैच में वेस्टइंडीज के लिए कप्तान रोवमन पॉवेल ने 48 और निकोलस पूरन ने 41 रन बनाए। गेंद के साथ ओबेड मैकॉय, जेसन होल्डर और रोमारियो शेफर्ड ने दो-दो विकेट लिए। भारत के लिए सबसे ज्यादा 39 रन तिलक वर्मा ने बनाए। अर्शदीप सिंह और युजवेन्द्र चहल ने दो-दो विकेट लिए।

वेस्टइंडीज ने की पहले बैटिंग :
टॉस जीतकर वेस्टइंडीज ने शानदार शुरूआत की। ब्रेंडन किंग ने शुरुआत से ही बड़े शॉट खेलना शुरू कर दिया और दो ओवर में कैरेबियाई टीम का स्कोर 20 रन के पार पहुंचा दिया। दूसरे छोर पर काइल मेयर्स लय में नहीं थे। कप्तान हार्दिक ने पांचवां ओवर चहल को दिया और चहल ने मेयर्स को विकेटों पगबाधा कर दिया। अगली गेंद पर जॉनसन चॉर्ल्स ने एक रन लिया और ओवर की तीसरी गेंद पर चहल ने किंग को भी विकेटों के सामने फंसा लिया। किंग ने 19 गेंद में 28 रन बनाए। एक ही ओवर में दो विकेट गंवाने के बाद वेस्टइंडीज की टीम दबाव में आ गई। चौथे नंबर पर आए पूरन ने चौके के साथ शुरूआत की और मैच में टीम को बनाए रखा, लेकिन चार्ल्स बड़ा शॉट खेलने के प्रयास में कुलदीप का शिकार बने। तिलक वर्मा ने शानदार कैच पकड़कर उन्हें पवेलियन भेजा। चार्ल्स ने छह गेंद में तीन रन बनाए। इसके बाद कप्तान रोवमन पॉवेल ने पूरन के साथ मिलकर चौथे विकेट के लिए 38 रन की साझेदारी की। इसके बाद पूरन भी बड़ा शॉट खेलने के प्रयास में हार्दिक पांड्या का शिकार बने। पूरन ने 34 गेंद में 41 रन बनाए। पूरन के बाद हेटमायर भी बड़ा शॉट खेलने के प्रयास में आउट हुए। उन्होंने 12 गेंद में सिर्फ 10 रन बनाए। अंत में कप्तान पॉवेल भी 32 गेंद में 48 रन बनाकर आउट हो गए। अर्शदीप ने उन्हें सूर्यकुमार यादव के हाथों कैच कराया। वहीं अर्शदीप ने भारतीय पारी के 19वें ओवर में चार वाइड गेंद की। इस वजह से टीम इंडिया तय समय पर 20वां ओवर नहीं शुरू कर सकी और आखिरी ओवर में सिर्फ चार फील्डर 30 गज के दायरे के बाहर थे। हालांकि, वेस्टइंडीज की टीम इसका फायदा नहीं उठा सकी और 20 ओवर में छह विकेट खोकर 149 रन ही बना पाई। भारत के लिए अर्शदीप सिंह और युजवेन्द्र चहल ने दो-दो विकेट लिए। कुलदीप यादव और हार्दिक पांड्या को एक-एक विकेट मिला।

भारत की पारी में क्या हुआ :
150 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए भारतीय टीम की शुरूआत कुछ खास नहीं रही। पांच रन के स्कोर पर टीम का पहला विकेट गिरा। शुभमन गिल नौ गेंद में सिर्फ तीन रन बनाकर अकील हुसैन का शिकार बने। एक बार फिर बाएं हाथ के स्पिनर ने उन्हें आउट किया। तीसरे नंबर पर आए सूर्यकुमार ने पहले तेजी से रन बनाए, लेकिन ईशान किशन कुछ खास नहीं कर पाए। वह नौ गेंद में छह रन बनाकर आउट हुए। सूर्यकुमार और तिलक ने तीसरे विकेट के लिए 39 रन की साझेदारी कर टीम इंडिया की मैच में वापसी कराई, लेकिन सूर्या भी 21 गेंद में 21 रन बनाकर आउट हो गए। अगले ही ओवर में तिलक वर्मा भी पवेलियन लौट गए। तिलक ने 22 गेंद में 39 रन बनाए। कप्तान हार्दिक ने संजू सैमसन के साथ मिलकर भारतीय पारी को संभाला और लगा कि ये दोनों टीम इंडिया को जीत दिला देंगे। आखिरी पांच ओवर में जीत के लिए भारत को सिर्फ 37 रन की जरूरत थी और छह विकेट बचे हुए थे। होल्डर ने भारतीय पारी का 16वां ओवर किया और पहली गेंद पर ही कप्तान हार्दिक को क्लीन बोल्ड कर दिया। हार्दिक ने 19 गेंद में 19 रन बनाए। इसी ओवर की तीसरी गेंद पर संजू सैमसन भी रन आउट हो गए। संजू ने 12 गेंद में 12 रन बनाए। अगली तीन गेंद में कुलदीप यादव कोई रन नहीं बना सके। होल्डर के ओवर में कोई रन नहीं बना और दो सेट बल्लेबाज आउट हो गए। यहां से टीम इंडिया मुश्किल में आ गई। भारत को जीत दिलाने की जिम्मेदारी अक्षर पटेल पर थी। उन्होंने कुलदीप के साथ मिलकर अगले दो ओवर में 16 रन बनाए और भारत को मैच में बनाए रखा। हालांकि, 19वें ओवर की पहली गेंद पर बड़ा शॉट लगाने के प्रयास में वह आउट हो गए और भारत की हार लगभग तय हो गई। अक्षर ने 11 गेंद में 13 रन बनाए। ओबेद मैकॉय ने उन्हें आउट किया। भारत को जीत के लिए आखिरी 11 गेंद में 21 रन चाहिए थे। ऐसे में अर्शदीप ने मैकॉय की दो गेंद में दो चौके लगाकर भारत को मैच में वापस ला दिया। आखिरी ओवर में भारत को जीत के लिए 10 रन चाहिए थे। शेफर्ड ने पहली गेंद पर अर्शदीप को क्लीन बोल्ड कर दिया। अगली पांच गेंद में अर्शदीप, चहल और मुकेश पांच रन ही बना सके और टीम इंडिया चार रन से मैच हार गई।

Harabhara Vatan

Harabhara Vatan

Next Story